Niketan Class 8 Hindi Chapter 11 मेरा नया बचपन

Niketan Class 8 Hindi Chapter 11 मेरा नया बचपन is the answer to each chapter is provided in the list so that you can easily browse throughout different chapters Shankardev Sishu Niketan Class 8 Hindi Chapter 11 मेरा नया बचपन and select need one.

Join Telegram Groups

Niketan Class 8 Hindi Chapter 11 मेरा नया बचपन

Also, you can read the Assam Board book online in these sections Solutions by Expert Teachers as per SCERT (CBSE) Book guidelines. These solutions are part of Shankardev Sishu Niketan All Subject Solutions. Here we have given Assam Board Shankardev Vidya Niketan Class 8 Hindi Chapter 11 मेरा नया बचपन Solutions for All Subjects, You can practice these here…

मेरा नया बचपन

Chapter – 11

HINDI

SHANKARDEV SISHU VIDYA NIKETAN

TEXTUAL QUESTIONS AND ANSWERS


1. (क) बचपन में ऐसी कौन सी विशेषता होती है, जिसकी बार-बार याद आती है ?

उत्तर :- बचपन में अतुलित आनंद समाया हुआ है। यह काल चिंता रहित होकर खेलने, खाने के है और निर्भय होकर स्वच्छंद रुप से इधर-उधर घूम सकते है। यह मानव जीवन का सबसे मधुर काल है। बचपन की ये विशेषताँए बार बार याद आती है।

(ख) कवयित्री क्यों चाहती हैं कि उनका बचपन फिर से लौट आए ?

उत्तर :- मानव का बचपन काल अतुलित आनंद का भंडार होता है। यह काल सारी व्यथा को मिटाकर निर्मल शांति प्रदान करता है। जब कोई बच्चा रोता है तो माँ अपने सारे काम छोड़कर बच्चे को अपनी गोद में उठा लेती है। इस रोने और मचलने में भी आनंद छिपा रहता है। इस काल में चिंता रहित होकर खेलने, खोने के अलावा निर्भय होकर मुक्त मन से विरचण कर सकते हैं। इसलिए कवयित्री चाहती है कि उनका बचपन फिर से लोट आए।

(ग) वह प्यारा जीवन निष्पाप का अर्थ स्पष्ट करो। 

उत्तर :- कोई भी मनुष्य इसके आनंद के अनुभव से अछूता नही रह सकता। बचपन ही वह काल है जो मनुष्य को भरपूर आनंद प्रदान करता है। यह काल सबसे मधुर तथा हिंसारहित है। इसमें किसी प्रकार का पाप तथा द्वेष की भावना नहीं रहती। यह सारी व्यथा दूरकर निर्मल शांति प्रदान करती है। 

(घ) मेरा नया बचपन कविता के प्रतिपाद्य को स्पष्ट करो। 

उत्तर :- प्रस्तुत कविता में कवयित्री सुभद्रा कुमारी चौहान ने अपनी बेटी के रुप में अपने ही बचपन के वर्णन किया है। बचपन अतुलित आनंद का भंडार होता है। कोई भी मनुष्य इसके आनंद के अनुभव से अछूता नहीं रह पाता। वे अनुभव करती है कि बचपन में ही निर्मल तथा स्वाभाविक विश्राम है।

2. आशय स्पष्ट करो :

(क) बार बार…. खुशी मेरी।

उत्तर :- कवयित्री सुभद्रा कुमारी चौहान को बारम्बार अपने बचपन की याद आती है। क्योंकि यह मानव जीवन का सबसे मधुर काल है। बचपन का अतुलित आनंद कभी भी भुलाया नहीं जा सकता। लेकिन समय के साथ आगे बढ़कर लोग बचपन को छोड़ प्रौढ़ावस्था प्राप्त करते है और बचपन का आनंद खो जाता है। रह जाती है सिर्फ बचपन की मधुर स्मृति। इसलिए कवयित्री ने समय पर आरोप लगाया है कि उसने कवयित्री के जीवन की सबसे आनन्ददायक काल बचपन छीन लिया है। 

(ख) मैं बचपन……कुटिया मेरी।

उत्तर :- कवयित्री सुभद्रा कुमारी चौहान जब अपने बचपन की मधुर यादों में खोई हुई थी, उसी समय उनकी नन्ही सी बिटिया बोल उठी। उसके बोलने से कवयित्री का सारा घर नंदन वन की तरह खिल उठा और चारों तरफ आनंद की लहर छा गई। कवयित्री अपनी बेटी के बचपन में ही खुद को समा देती है।

3. सही कथन पर () का चिह्न लगाओ : 

(क) कवयित्री को बार-बार बचपन की याद आती है, क्योंकि ―

(अ) उनकी माँ उन्हें बहुत प्यार करती थी।

(आ) बचपन अतुलित आनंद का भंडार होता है।

(इ) बचपन में कोई काम नहीं करना पड़ता। 

उत्तर :- (आ) बचपन अतुलित आनंद का भंडार होता है। ✓

(ख) बड़े बड़े मोती से आँसु –

(अ) झुला झुलाते थे।

(आ) जयमाला पहनाते थे।

(इ) आनंददिलाते थे।

उत्तर :- (आ) जयमाला पहनाते थे।✓

(ग) बचपन में रोने पर कवयित्री की माँ

(अ) उन्हें गोद में उठाकर खूब प्यार करती थी।

(आ) उन्हें बिल्ली से डराती थी।

(इ) उनकी पिटाई कर देती थी।

उत्तर :- (अ) उन्हें गोद में उठाकर खूब प्यार करती थी।✓

(घ) कवयित्री की बिटिया उन्हें क्या खिलाने आई थी ?

(अ) मिठाई।

(आ) चॉकलेट।

(इ) मिट्टी।

उत्तर :- (इ) मिट्टी। ✓

4. रिक्त स्थानों की पूर्ति करो :

(क) जिसे खोजती थी बरसों से,

      अब जाकर उसको पाया,

      भाग गया था मुझे छोड़कर,

      वह बचपन फिर से आया।

(ख) आ जा बचपन एक बार फिर,

      दे दे अपनी निर्मल शांति,

      व्याकुल व्यथा मिटाने वाली, 

      वह अपनी प्राकृत विश्रांति ।

5. (क) मेरा नया बचपन कविता की रचयिता कौन है ?

उत्तर :- मेरा नया बचपन कविता की रचयिता सुभद्रा कुमारी चौहान है।

(ख) कवयित्री किसे बुला रही थी ?

उत्तर :- कवयित्री अपने मधुर बचपन को बुला रही थी।

(ग) कवयित्री को नया जीवन किस रूप में प्राप्त हुआ ?

उत्तर :- कवयित्री को नया जीवन अपनी बेटी के बचपन के रूप में प्राप्त हुआ। 

(घ) कवयित्री को मिट्टी खिलाने कौन आई थी ? 

उत्तर : कवयित्री को मिट्टी खिलाने उनकी नन्ही सी बेटी आई थी।

(ङ) अपनी बिटिया की किस बात से कवयित्री बहुत खुश हुई ?

उत्तर :- जब कवयित्री की बेटी माँ कहकर उन्हें मिट्टी खिलाने आई थी, तब कवयित्री बहुत खुश हुई। 

(च) कवयित्री के पास बचपन क्या बनकर आया ?

उत्तर :- कवयित्री के पास बचपन उनकी बेटी बनकर आया।

(छ) किसकी मंजुल मूर्ति देखकर कवयित्री में नव-जीवन जाग उठा ?

उत्तर :- उपनी बेटी की मंजुल मूर्ति देखकर कवयित्री में नव जीवन जाग उठा।

(ज) क्या तुम्हें भी बचपन प्रिय है ?

उत्तर :- हाँ, मुझे भी बचपन प्रिय है।

भाषा अध्ययन

1. पर्यायवाची शब्द :

आकाश – गगन, आसमान।

पृथ्वी – धरती, धरा।

मधुर – मीठा, प्यारा खुशी – आनंद. हर्ष।

निर्मल – शुद्ध, मलहीन माँ – जननी, माता।

मंजुल – मनोहर, सुन्दर।

सरलता – सादगी, सीधापन। 

अतिरिक्त प्रश्नोत्तर :

1. सुभद्रा कुमारी चौहान ने किस पत्रिका का संपादन किया था ?

उत्तर :- कर्मवीर।

2. चौहान जी की मृत्यु कैसे हुई ?

उत्तर :- मोटर दुर्घटना में।

3. कवयित्री ने बचपन किसका भंडार माना है ?

उत्तर : अतुलित आनंद का।

Leave a Reply

error: Content is protected !!
Scroll to Top