Niketan Class 8 Hindi Chapter 2 कश्मीरी सेब

Niketan Class 8 Hindi Chapter 2 कश्मीरी सेब is the answer to each chapter is provided in the list so that you can easily browse throughout different chapters Shankardev Sishu Niketan Class 8 Hindi Chapter 2 कश्मीरी सेब and select need one.

Join Telegram Groups

Niketan Class 8 Hindi Chapter 2 कश्मीरी सेब

Also, you can read the Assam Board book online in these sections Solutions by Expert Teachers as per SCERT (CBSE) Book guidelines. These solutions are part of Shankardev Sishu Niketan All Subject Solutions. Here we have given Assam Board Shankardev Vidya Niketan Class 8 Hindi Chapter 2 कश्मीरी सेब Solutions for All Subjects, You can practice these here…

कश्मीरी सेब

Chapter – 2

HINDI

SHANKARDEV SISHU VIDYA NIKETAN

TEXTUAL QUESTIONS AND ANSWERS


1. सत्य कथन के सामने (√) और असत्य कथन के सामने (x) का निशान लगाओ :

(क) गाजर में अधिक विटामिन पाया जाता है।

उत्तर :- (√)

(ख) अलफाँसो रोब की एक किस्म है।

उत्तर :- (x)

(ग) फल खाने का सही समय रात है। 

उत्तर :- (x)

(घ) चौथे सेबमें एक काला सुराख था। 

उत्तर :- (√)

(ङ) दुकानदार ने लेखक को बढ़िया सेब दिए थे।

उत्तर :- (x)

(च) आदमी बेईमानी तभी करता है, जब उसे अवसर मिलता है।

उत्तर :- (√)

(छ) लेखक ने दुकानदार को सेब की कीमत के रुप में चार आने पैसे दिए थे।

उत्तर :- (√)

(ज) एक सेब भी खाने लायक नहीं था।

उत्तर :- (√)

(झ) सभी दुकानदार बेईमानी करते है।

उत्तर :- (x)

(ञ) खोमचेवाले ने लेखक की अठन्नी नहीं लौटायी।

उत्तर :- (x)

2. बनारस किस आम के लिए प्रसिद्ध है ?

उत्तर :- बनारस लंगड़े आम के लिए प्रसिद्ध है।

(क) दुकान पर किस रंग के सेब सजे हुए थे ?

उत्तर :- दुकान पर रंगदार, गुलाबी रंग के सेब सजे थे।

(ग) लेखक ने दुकानदार से कितने सेब माँगे ?

उत्तर :- लेखक ने दुकानदार से आध सेर सेब माँगे।

(घ) लेखक ने दुकानदार को कितने पैसे दिए ?

उत्तर :- लेखक ने दुकानदार को चार आने पैसे दिए।

(ङ) फल खाने का उपयुक्त समय क्या है ?

उत्तर :- फल खाने का उपयुक्त समय प्रातः काल है। 

(च) कोई वस्तु खरीदते समय हम ठगे न जाए इसके लिए हमें क्या-क्या सावधानियाँ बरतनी चाहिए ?

उत्तर :- कोई वस्तु खरीदते समय हम ठगे न जाएँ इसके लिए हमे निम्नलिखित सावधानियाँ बरतनी चाहिए –

(क) ग्राहर अधिकार एवं ग्राहक सुरक्षा पर ध्यान देना चाहिए।

(ख) वस्तुओं के पैकेट पर छपे वजन, निर्माण की तारिख, गुणवता, समाप्ति होने की तारीख और मुल्य देख ले। 

(ग) दवाओं के पैकेटों या बोतलों पर छपे वजन, बैच नंबर, निर्माण तिथि, गुणवत्ता, समाप्ति तिथि और अधिकतम खुदरा मूल्य देखकर ही खरीदना चाहिए।

(घ) फल सब्जियों को खरीदते समय यह देख लेना चाहिए कि वे ताजे है या नहीं। स्थानीय है या बाहर से मंगाए गए हैं। वे सड़े हुए न हों और दुकानदार सही तौल रहा है अथवा नहीं।

(ङ) कुछ वस्तुएँ संख्या के हिसाब से बिकते हैं। अतः वस्तुएँ खरीदते समय उनकी सही संख्या गिनकर ही लेना चाहिए। 

3. (क) हमारे बदले हुए खाद्याभ्यास के बारे में लेखक का क्या विचार है ?

उत्तर :- हमारे बदले हुए खाद्याभ्यास के बारे में लेखक ने अपना विचार प्रकट करते हुए कहा है कि आजकल शिक्षित समाज में विटामिन और प्रोटीन शब्दों में विचार करने की प्रवृत्ति हो गई है। टमाटर भोजन का आवश्यक अंग बन गया है। गाजर का भी पहले लोग हलवा ही खाते थे मगर अब पता चला है कि गाजर में भी बहुत विटामिन है। इसलिए गाजर को भी लोग खाने में शामिल करने लगे हैं।

(ख) सेब खाने के क्या क्या लाभ है ? 

उत्तर :- सेब रस और स्वाद में एक बेजोर फल है। उसके बारे में कहा जाता है कि एक सेब रोज खाने से हम रोगमुक्त हो सकते है। 

(ग) लेखक ने प्रातः काल खाने के लिए जब सेब निकाले तो वे किस हालत में मिले ?

उत्तर :-  लेखक ने प्रातः काल खाने के लिए जब सेब निकाले, वे सब सड़े हुए। मिले। एक भी सेब खाने लायक नहीं था।

(घ) दुकानदार को लेखक से बेईमानी करने का अवसर कैसे मिला ? 

उत्तर :- दुकानदार को लेखक से बेईमानी करने का अवसर मिला क्योंकि उन्होंने अपना रुमाल सेब देने के लिए दुकानदार के हाथ में दिया था। साथ ही उन्होंने बिना देखे सेबों को दुकानदार पर विश्वास करते हुए लिया था।

(ङ) खोमचेवाले की ईमानदारी के बारे में लेखक ने क्या कहा है ?

उत्तर :- खोमचेवाले की ईमानदारी के बारे में लेखक ने कहा है कि एकबार मुहर्रम के मेले में लेखक ने एक पैसे की रेवड़ियाँ लेकर पैसे की जगह अठन्नी दे आया था। बाद में जब उन्हें अपनी भूल मालूम हुयी, तो वे खोमचेवाले के पास गये। लेखक को यह आशा नहीं थी कि खोमचेवाले अठन्नी लौटाँयेगा। लेकिन उसने प्रसन्नचित होकर अठन्नी लौटा दी और लेखक से क्षमा माँगी।

(च) इस कहानी से क्या शिक्षा मिलती है ? 

उत्तर :- प्रस्तुत कहानी से यह शिक्षा मिलती है कि कोई भी सामान खरीदते समय हमें सावधानी बढ़तनी चाहिए, देख-परखकर ही सामान खरीदना चाहिए। नहीं तो दुकानदार हमें ढंग सकता है। इसलिए कहानीकार ने प्रकारांतर से यह भी कहा है कि “जागो ग्राहक जागो।” 

भाषा अध्यन :

1. दिए गए उदाहरण को देखकर निम्नलिखित शब्दों से वाक्य बनाओ :

सुबह― करीम शाम को घर लौटता है।

अमीर― हमें सदा गरीब लोगों की सहायता करनी चाहिए। 

पश्चिम― सूर्य पूरब से उगता है।

हानि ― आधुनिक यंत्र के जरिए समाज को लाभ होता है।

आशा―  हमें कभी भी निराश नहीं होना चाहिए। 

2. चार पैसों का इतना गम न हुआ, जितना समाज के इस चारित्रिक पतन का । लेखक ने किस परिस्थिति में एसा कहा है ?

उत्तर :- चरित्र में ही मानव का अच्छा, बुरा निर्भर है। एक बार अगर चरित्र पर दाग लगता है तो उसे मिटाना मुशकिल हो जाता है, इसलिए इसे कोरे कागज के साथ तुलना किया जाता है।

प्रस्तुत पाठ में लेखक को भी मानव चरित्र का पतन देखकर बहुत दुख है। दुकानदार ने कुछ पेसों के लिए सड़े हुए सेब बेचे जो उसके चारित्रिक पतन को प्रदर्शित करता है। इसलिए लेखक ने ग्राहक को सावधान करते हुए ऐसे दुकानदारों से बचने को कहा है। साथ ही उन्होने इस बात की और भी इसारा किया कि किसी दुकानदारों से सामान खरीदते समय ग्राहक को भी सावधान रहना चाहिए तथा देख परखकर ही सामान खरीदना चाहिए।

3. किसने कहा, किससे कहा ? 

(क) बाबुजी, बड़े मजेदार सेब आए है।

उत्तर :-  दुकानदार ने ग्राहक से कहा।

(ख) सेब चुन-चुनकर रखना। 

उत्तर :- ग्राहक ने दुकानदार से कहा। 

4. प्वाक्य बनाओ : 

रो-रोकर :- बलिन रो-रोकर बेहाल हो चुका है।

दौड़-दौड़कर :- अनल दौड़-दौड़कर थक गया। 

बोल बोलकर :- रहीम बोल-बोलकर अपना गला सुखा डाला। 

मार-मारकर :- सेर को मार-मारकर इन्सानों ने अधमरा कर डाला।

रह-रहकर :- रह-रहकर लड़की दौड़ती हुई थक गयी है। 

प्रेमचंद :- प्रेमचंद हिन्दी कहानीकारों में सबसे लोकप्रिय कहानीकार हैं। इनकी कहानियों में महत्वपूर्ण संदेश छिपे होते है। इनका जन्म १८८० ई० में काशी के निकट लमही गाँव में हुआ था। उनका असली नाम धनपत राय था। पिताजी उन्हे प्यार से नवाब कहते थे। प्रेमचंद ने लघभग ३०० कहाँनियो और १४ उपन्यासों की रचना की थी। १९३६ ई० में इनका स्वर्गवास हुआ। उनकी ‘कुछ रचनाएँ इस प्रकार है। 

उपन्यास :- सेवासदन, प्रेमाश्रम, रंगभूमि, कायाकल्प, निर्मला, गबन, कार्यभूमि, गोदान आदि ।

कहानियाँ :- बूढ़ी काकी, परीक्षा, सवासेर गेहुँ, शतरंज के खिलाड़ी, कजाकी, पूस की रात, ठाकुर का कुआँ, ईदगाह, कफन आदि। 

5. खाली स्थानों को भरो :

पाँडव पाँच भाई थे। एक दिन बहुत गर्मी थी। वन में पांडवों को बड़े जोर की प्यास लगी। आस-पास जल का अभाव था। घने वृक्षों के कारण दूर तक देखना मुशकिल था। तब नकुल ने एक ऊँचे पेड़ पर चढ़कर देखा कि थोड़ीरूर पर जल से भरा एक बहुत बड़ा तालाब है। उसे दूर उड़कर से आता एक छोटा पक्षी दिखाई दिया। 

अतिरिक्त प्रश्नोत्तर :

1. कश्मीरी सेब कहानी के लेखक कौन है ?

उत्तर :- प्रेमचंद। 

2. प्रस्तुत पाठ में किस बात पर जोर दिया गया है ?

उत्तर :- प्रस्तुत पाठ में इस बात पर जोर दिया गया है कि हमें सामान खरीदते समय सावधानी बरतनी चाहिए।

3. लेखक ने कितने पैसे की रेवड़िया ली थी ?

उत्तर :- एक पैसे की।

4. प्रेमचंद के दो उपन्यास और दो कहानियों के नाम लिखो।

उत्तर:-  उपन्यास :- गबन, गोदान

कहानियाँ :- परीक्षा, पूस की रात .

Leave a Reply

error: Content is protected !!
Scroll to Top